Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi

Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi

Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi

Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi,” aslam wlaykum wa-raḥmatu -llahi wa-barakatuh, Today we are going to talk about the wedding of choice and the Wazifa for Naik and legitimate relationships which are our sisters who are our brothers, are troubled by relationships, who are unable to have relationships or are not getting good relationships. Our sisters are sitting at home, they are unable to get married. Only in waiting that any good relation or legitimate relationship will come for them, they are sitting in this wait. Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi.

Despite waiting for a long time, good and fair relations do not get in their luck, that is, no good and good relationship comes to their house. So it is requested of those people that they do this wazifa, inshallah will be your marriage. Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi.

How to make a Wazifa-

  • First of all, read Darud-e-Pak 11 times in the beginning.
  • After that you also have to read 41 times Saurah Ikhlas or read Kulhuvallah Sharif.
  • In the last 11 times, Darud-e-Pak re-read.
  • You have to do it continuously for 90 days.
  • That’s all you have to do.

Now we will talk about the way of stating. How do we do this Wazifa? You have to do this Wazifa after Isha. First you have to offer Isha’s prayers in a complete manner. It is not that you do not offer prayers to Isha. If you sit down to do this wazifa, then this wazifa will have some effect. See first, you offer namaz first, you can offer namaz, after being in the namaz, you can do this wazifa. before. Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi.

When you are away from everything. After that whether you do this wazifa sitting on Janamas or you can do this wazifa sitting on the bed. The condition is that whenever you do this wazifa. Then you are mad, that is, if you are doing after Isha, then it is important to have lajmi waju. Then you will have your weight only then you can. And if you can eat everything during the evening in the evening, you can sit on the bed after being safe. You can do the Vaju first and after that you can. Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi.

Shadi Ka Wazifa:

Whenever you start this wazifa, you can read Darud e Pak which you remember, it will be better that you also read Darud e Ibrahim. If you do not remember any darud-e-pak then you “sallallahu ta al alaihi wasallam” This is also a darud-e-pak. You can also read it. Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi.

This is Surah: Ikhlas- “Kulluvallah Ahad Allahus Samad Lamayalid Valamayu Lad Vallam – or Kullahu Kufahuvan Ahad” is to be read. The same Darud-e-Pak you read earlier.

That’s all you have to do When this wazifa is completed, only you pray for your marriage. Pray for the person you want to marry. See, marrying is not a crime. Just your objective should be noble. If you pray for a noble cause and if you are legitimate and righteous, then you will definitely accept Allah Ta’ala. It is important to just offer your namaz. Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi.

The time of this wazifa will be 90 days, you have to do it continuously for 90 days. Do not have to gap even for one day only. Women can have a gap of 7 to 10 days during periods by apologizing to Allah. Women have to clean Pak and start that Wazifa again. Do not do it from the beginning. Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi.

Our Other Service:

::पसंद की शादी का वज़ीफ़ा हिंदी में::

Pasand Ki Shadi Ka Wazifa in Hindi

आज हम बात करने वाले हैं पसंद की शादी का वज़ीफ़ा और नैक और जायज रिश्तों के लिए किया जाने वाला वज़ीफ़ा जो हमारी बहने हैं जो हमारे भाई हैं रिश्तों से परेशां हैं जिनके रिश्ते नहीं हो पा रहे हैं या अच्छे रिश्ते नहीं मिल पा रहे हैं जो हमारी बहने घर पर बैठी हुयी हैं शादी नहीं हो पा रही। सिर्फ इस इंतजार में की कोई नेक रिश्ता या जायज रिश्ता उनके लिए आएगा इसी इंतजार में बैठी रहती हैं।

काफी वक्त तक इंतजार करने के बावजूद नेक और जायज रिश्ते उनकी किस्मत में नहीं मिल पाते, यानी कि उनके घर पर कोई अच्छा और नेक रिश्ता नहीं आता है। तो उन लोगों से गुजारिश है कि वह यह वजीफा जरूर करें इंशाल्लाह आपका निकाह हो जाएगा।

वज़ीफ़ा करने का तरीका –

  1. सबसे पहले 11 बार शुरू में दरूद-ए-पाक पढ़ें।
  2. उसके बाद आपको 41 मर्तबा सौराह इखलास भी पढ़ना है या कुल्हुवल्लाह शरीफ पढ़ना है।
  3. आखिरी में 11 मर्तबा दरूद ए पाक दुबारा पढ़े।
  4. 90 दिन तक आपको लगातार करना है।
  5. बस आपको इतना ही यह वजीफ़ा करना है।

अब हम बात कर लेते हैं वजीफा करने का तरीका। हमें यह वजीफा किस तरीके से करना है। यह वजीफा आपको ईशा के बाद करना है। पहले आपको ईशा की नमाज मुकम्मल तरीके से अदा करनी है। इसमें ऐसा नहीं है कि आप इशा की नमाज अदा ना करें। सिर्फ आप यह वजीफा करने बैठ जाएं तो इस वजीफा का कोई असर हो जाएगा। देखिए सबसे पहले नमाज़ पहले आप नमाज अदा कीजिए नमाज से पारीक होने के बाद आप इस वजीफा को कर सकते हैं इस वजीफा का वक्त शुरू होता है ईशा के बाद से और इसका वक्त तब तक रहता है जब तक आप एक नींद ना ले ले मतलब सोने से पहले।

जब आप हर काम से फारिक हो जाए। उसके बाद आप चाहे जानामास पर बैठकर इस वजीफा को कर ले या फिर आप बिस्तर पर बैठकर भी इस वजीफा को कर सकते हैं। शर्त इसमें यह है कि जब भी आप इस वजीफा को करें। तब आप बावजू हो यानि आप अगर ईशा के बाद कर रहे हो तो लाजमी वजू होना जरूरी है। तब तो आपका वजू होगा ही तब आप कर सकते हैं। और अगर आप शाम के वक्त में खाना वगैरह खा के हर चीज सेफारिक हो कर बिस्तर पर बैठ के कर सकते हैं। पहले आप वजू कर ले उसके बाद आप कर सकते हैं ।

शादी का वज़ीफ़ा:

जब भी आप इस वजीफा को शुरू करें तो दरुद ए पाक जो आप को याद हो उसको आप पढ़ सकते हैं बेहतर यह भी रहेगा कि आप दरुद ए इब्राहिम को भी पढ़ें। अगर आपको कोई दरुद-ए-पाक याद ना हो तो आप “सल्लल्लाहु त अल अलैहि वसल्लम” यह भी एक दरुद ए पाक है। इसे भी आप पढ़ सकते हैं।

यह है सूरः इखलास- “कुल्हुवल्लाह आहद अल्लाहुस समद लमयालिद वलमयू लद वलम-या कुल्लाहु कुफहुवन अहद” इसको पढ़ना है। वही दरूद ए पाक जो आपने शुरू में पढ़ा था।

बस आपको इतना ही यह वजीफ़ा करना है। जब आपका यह वजीफा मुकम्मल हो जाये तो सिर्फ आप अपनी शादी के लिए दुआ करें। आप जिस शख्स से भी शादी करना चाहते हैं उनके लिए दुआ कीजिये। देखिये निकाह करना कोई गुनाह नही है। बस आपका मकसद नेक होना चाहिए। अगर आप नेक मकसद से दुआ करेगे और आपकी हाज़त अगर जायज और नेक होगी तो वह जरूर अल्लाह ताला के पास जरूर कबुल होगी। बस आपका नमाज अदा करना जरूरी है।

इस वजीफ़ा का समय रहेगा 90 दिन, 90 दिन तक आपको लगातार करना है। एक दिन का भी गैप नही करना है सिर्फ। महिलाएं पीरियड्स के दौरान अल्लाह से माफी मांग कर 7 से 10 दिन का समय का गैप कर सकती हैं। महिलाओं को पाक साफ होकर करना है और उस वज़ीफ़ा को वही से दुबारा शुरू करे। शुरू से नही करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *